चीन में जब बच्चा पैदा होता है…तो वो बाप या माँ पर नही

*मंदी में पति की लिखी एक कविता अपनी पत्नी को…*
प्रिय क्यूँ तुम नए-नए
सूट सिलाती हो!
पुरानी साडी में भी तुम
अप्सरा सी नजर आती हो !!!
इन ब्यूटी पार्लरों के
चक्करों में ना पडा करो !
अपने चांद से चेहरे को
क्रीम पाउडर से यूँ ना ढका करो !!
रेस्टोरेंट होटल के खाने में क्या रखा है !
तुम्हारे हाथों से बना घर का खाना,
इनसे लाख गुना अच्छा है !!!
इन सैर सपाटों में वो बात कहाँ !
तुम्हारे मायके जैसा
ऐशो-आराम कहाँ !!!
नौकरों से खिटपिट में,
मत सेहत तुम अपनी खराब करो !
झाडू-पौछा लगा
हल्का सा व्यायाम करो !!!
सोने-चांदी में मिलती
अब सो सो खोट है !
तुम्हारी सुन्दरता ही
24 कैरेट प्योर गोल्ड है !!!
माया-माया मत किया कर पगली,
यह तो महा ठगिनी है !
मेरे इस घर-आंगन की तो,
तू ही असली धन लक्ष्मी है !!
*हैप्पी मंदी*

आज अम्बुजा सीमेंट से भी मजबूत चीज मिली
2000/- का नोट
यकीन मानिये “भाईया टूटता ही नही”

औरतें भी अजीब होती हैं
देवदास का शाहरुख़ इन्हें रोमांटिक’ लगता है,
और
अपना पति शराब पिए, तो ‘बेवड़ा’ लगता है।”

लड़की- तुम सारे लड़के एक जैसे ही क्यों होते हो?
लड़का- ऐक्चुअली हम मेकअप नहीं करते न।

चीन में जब बच्चा पैदा होता है…
तो वो बाप या माँ पर नहीं…
पूरे चीन पर जाता है
इसे कहते है…देशभक्ति

एक बार एक news वाला गाँव में सर्वे करने जाता है तो

वह एक गाँव वाले से पूछता है की आप सबसे ज्यादा किस चीज का ध्यान जिम्मेदारी से रखते है

आदमी साहेब हम तो इ बात को ध्यान रखा की सुबह पाणी मिलेगो के नहीं इलियाँ रातानू ही लोटो भरर हमारी खाट रा नीचे रख लेवा

news वाले नए अगली बार यह सवाल कम से कम किसी गाँव वाले से तो नहीं पूछा